कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा को 2 साल की सजा, 10 मिनट बाद मिली जमानत

शिवराज मानहानि केस: कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा को 2 साल की सजा, 10 मिनट बाद मिली जमानत
Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

शिवराज मानहानि केस: कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा को 2 साल की सजा, 10 मिनट बाद मिली जमानत

भोपाल। मानहानि के केस में कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता के के मिश्रा को दो साल की सजा और 25 हजार का जुर्माना लगाया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उनकी पत्नी साधना सिंह और परिजनों पर व्यापमं घोटाले में आरोप लगाने के मानहानि मामले में के के मिश्रा को दो साल की सजा और 25 हजार का जुर्माना लगाया गया। हालांकि मानहानि मामले में दोषी करार दिए जाने के 10 मिनट बाद ही कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता केके मिश्रा को जमानत मिल गई। कोर्ट ने केके मिश्रा को 50 हजार रुपए के मुचलके पर जमानत पर रिहा कर दिया।
बता दें कि केके मिश्रा के आरोपों से आहत सीएम शिवराज ने भोपाल जिला न्यायालय में मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया था। शुक्रवार को इस मामले में न्यायाधीश काशीनाथ सिंह ने अपना फैसला सुनाया। जिस मामले में के के मिश्रा को सजा सुनाई गई है। हालांकि बाद में मिश्रा को 50 हजार के निजी मुचलके पर जमानत मिल गई है। ये मामला व्यापमं की परिवहन आरक्षक भर्ती परीक्षा से जुड़ा है। इस मामले में के के मिश्रा ने प्रेसवार्ता कर सीएम शिवराज और उनकी पत्नी साधना सिंह पर आरोप लगाए थे।

के के मिश्रा ने लगाए थे आरोप
आपको बता दें कि व्यापमं की परिवहन भर्ती परीक्षा को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता के के मिश्रा ने 7 मार्च 2015 को भोपाल में एक प्रेसवार्ता में सीएम शिवराज सिंह और उनकी पत्नी साधना सिंह पर आरोप लगाया था कि व्यापमं के जरिए सीएम शिवराज सिंह की ससुराल गोंदिया से 19 लोगों का परिवहन आरक्षक पद पर चयन हुआ है। इसके बाद सीएम ने कोर्ट में परिवाद दायर किया था। इस मामले में के के मिश्रा सुप्रीम कोर्ट गए थे, जहां उन्होंने परिवाद को दूसरी अदालत में स्थानांतरित करने की अपील की थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट से उन्हें इस मामले में राहत नहीं मिली।

शिवराज मानहानि केस: कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा को 2 साल की सजा, 10 मिनट बाद मिली जमानत
शिवराज मानहानि केस: कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा को 2 साल की सजा, 10 मिनट बाद मिली जमानत

कांग्रेस नेता को सजा सुनाए जाने के 10 मिनट बाद मिली जमानत
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मानहानि मामले में दोषी करार दिए जाने के 10 मिनट बाद ही कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता केके मिश्रा को जमानत मिल गई। कोर्ट ने केके मिश्रा को 50 हजार रुपए के मुचलके पर जमानत पर रिहा कर दिया। भोपाल की जिला अदालत में न्यायधीश काशीनाथ सिंह ने मानहानि मामले में फैसला सुनाते हुए केके मिश्रा को दो साल की कैद और 25 हजार रुपए जुमार्ने की सजा सुनाई।

ऐसे मिली जमानत
> कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा को 10 मिनट में मिली जमानत
> 3 बजे दोषी करार, 3.05 बजे सजा सुनाई, 3.15 बजे मिली जमानत
> मिश्रा को 2 साल की सजा, 25 हजार का जुर्माना
> जिला अदालत में जज काशीनाथ सिंह की कोर्ट ने सुनाया फैसला
> कोर्ट में 3 साल से चल रहा था मानहानि का केस

केके मिश्रा ने मुख्यमंत्री शिवराज और उनकी पत्नी साधना सिंह पर व्यापमं परीक्षा में गड़बड़ी के आरोप लगाये थे। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने केके मिश्रा की याचिका पर सुनवाई करते हुए ट्रायल पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। इसके बाद अब इस पूरे मामले में कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है।

ये है पूरा मामला
> शासन ने 2014 में कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा पर मानहानि का दावा।
> मानहानि के परिवाद पर कोर्ट में 26 जून को सुनवाई शुरू हुई।
> परिवहन आरक्षक भर्ती में शिवराज सिंह की पत्नी साधना सिंह की भूमिका पर सवाल उठाए थे।

सीएम की तरफ से परिवाद में उठाए गए थे 5 प्रमुख सवाल
1- गोंदिया के 19 परीक्षार्थियों की नियुक्तियों का आरोप पूरी तरह से गलत है, गोंदिया का एक भी चयनित नहीं हुआ।
2- फूलसिंह चौहान मुख्यमंत्री के मामा नहीं हैं, सीएम के एकमात्र मामा का निधन हो चुका है।
3- आरोपियों को सीएम हाउस से 139 कॉल होने का आरोप पूरी तरह से गलत, इसका कोई रिकार्ड नहीं।
4- कांग्रेस प्रवक्ता ने मुख्यमंत्री, उनके परिजनों और सरकार को बदनाम करने की नीयत से झूठी टिप्पणियां कीं, जिससे मानहानि हुई।
5- कॉल डिटेल और एसएमएस की सूची कहां से मिली, के के मिश्रा बताएं। कांग्रेस द्वारा जारी की गई सूची में हाथ से चिन्ह लगाए गए, जिससे यह जांच को प्रभावित करने वाला कृत्य है।

193 total views, 2 views today

Related posts: