चित्रकूट उपचुनाव के लिए भाजपा से 10 दावेदार, प्रत्याशी के चयन पर नहीं बनी सहमति

mission-2018, mp vidhansabha chunav, mp bjp, mp bjp government, aadiavsi, kisan, former, agricultur in mp, kisan aandolan, मिशन-2018, किसान और वनवासी, भाजपा bpl news, mp bjp news
Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में सिंगल नाम पर नहीं बन सकी सहमति
भोपाल। मप्र के चित्रकूट विधानसभा में होने जा रहा उपचुनाव रोचक मोड़ पर आता जा रहा है। यहां से कांग्रेस और भाजपा के दिग्गजों की साख दांव पर लगी है। पहले यह सीट कांग्रेस के ही पास थी, जिस पर भाजपा पूरा जोर लगा रही है, लेकिन चित्रकूट विस उपचुनाव के लिए भाजपा में प्रत्याशी चयन को लेकर संशय बरकार है। यहां से भाजपा के 10 उम्मीदवार हैं। इसी को लेकर प्रदेश भाजपा कार्यालय में बुधवार को हुई प्रदेश चुनाव समिति की बैठक भी बेनतीजा रही।
दरअसल, बैठक में दस प्रत्याशियों का नाम आने से बैठक में किसी भी प्रत्याशी के नाम पर सहमति नहीं बन पाई। दो-तीन दिनों में नाम तय कर केंद्रीय समिति को भेजा जाएगा, जहां से प्रत्याशी के नाम का ऐलान किया जाएगा। बता दें कि पूर्व विधायक सुरेंद्र सिंह गहरवार और  नंदिता पाठक सहित दस नामों को लेकर समिति की बैठक में चर्चा हुई है। हालांकि दावेदारों की ग्राउंड रिपोर्ट देखने के बाद जल्द ही नाम दिल्ली भेजे जाएंगे। इसके बाद केंद्र से हरी झंडी मिलते ही उम्मीदवार की घोषणा कर दी जाएगी।
बैठक में प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, खनिज मंत्री राजेन्द्र शुक्ल, रीवा सम्भाग के संगठनात्मक प्रभारी एवं प्रदेश महामंत्री बीडी शर्मा, पूर्व केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते, गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह, कृष्ण मुरारी मोघे और विक्रम वर्मा मौजूद रहे। बैठक के बाद मीडिया से चर्चा में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि चुनाव सीमिति की बैठक में दस नाम आए थे। इन सभी नामों पर विस्तार से चर्चा की गई है। अगले दो से तीन दिन में उम्मीदवार का नाम घोषित कर दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि पार्टी इन प्रत्याशियों का फीडबैक लेकर उस उम्मीदवार के नाम की घोषणा करेगी।

-चित्रकूट से दस दावेदार
बैठक में चित्रकूट विधानसभा के संभावित उम्मीदवारों के तौर पर कृष्ण मिश्र, पन्नालाल अवस्थी, शंकर दयाल त्रिपाठी, रामनाथ मिश्रा, डॉक्टर हर्ष नारायण सिंह बघेल, चंद्र कमल त्रिपाठी, सुरेंद्र सिंह गहरवार, सुभाष शर्मा डोली, रत्नाकर चतुवेर्दी, नंदिता पाठक के नामों पर विमर्श किया गया।

 

-नेता प्रतिपक्ष की साख रहेगी दांव पर
कांग्रेस विधायक प्रेमसिंह के निधन के बाद से रिक्त हुई चित्रकूट विधानसभा सीट को बचाने के लिए पार्टी के सामने चुनौती है। क्षेत्र के प्रभावी कांग्रेस नेता व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की साख फिर से दांव पर रहेगी। इस सीट पर दिवगंत विधायक के परिवार के सदस्यों के अलावा तीन अन्य नेताओं की दावेदारी अब तक सामने आई है, जिनमें से प्रत्याशी का चयन होना है।

– प्रेमसिंह के निधन से रिक्त हुई थी सीट
चित्रकूट में प्रेम सिंह के 29 मई 2017 को निधन के बाद से विधानसभा सीट रिक्त है। चित्रकूट सीट के उपचुनाव के लिए कांग्रेस संगठन नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह को पूरी जिम्मेदारी दे सकता है। वह क्षेत्र में लगातार दौरे भी कर रहे हैं। उपचुनाव को देखते हुए स्थानीय नेताओं की सक्रियता भी बढ़ी है।
चित्रकूट के दिवंगत विधायक प्रेम सिंह के परिवार से उनकी भतीजी मिथलेश, दामाद संजय सिंह व भतीजा मंगल सिंह की दावेदारी है। इन तीनों की गैर राजनीतिक पृष्ठभूमि है। जिला पंचायत सदस्य रहीं गीता सिंह पघार चुनाव लड़ने की तैयारी में है। दूसरी तरफ पूर्व सांसद और पुराने समाजवादी नेता रहे रामानंद सिंह ने अपने बेटे राजवंश सिंह के लिए कांग्रेस हाईकमान में पहुंच की है।

-सतना जिले का दूसरा उपचुनाव
प्रदेश में अब तक 11 उपचुनाव हो चुके हैं। आने वाले दिनों में दो उपचुनाव और होना हैं। सतना जिले का चित्रकूट का दूसरा उपचुनाव है। इसके पहले मैहर विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक निर्वाचित हुए नारायण त्रिपाठी ने अगस्त 2015 को सदस्यता से इस्तीफा दिया था और फरवरी 2016 को उपचुनाव में त्रिपाठी ही दोबारा विधायक चुनकर विधानसभा पहुंचे।

 

-नहीं बन पा रही सहमति
प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के लिए चित्रकूट में एक प्रत्याशी के नाम पर सहमति नहीं बन पा रही है। बैठक के बाद चर्चा में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने बताया है कि चुनाव समिति अपना कार्य कर रही है। फिलहाल अभी 10 नाम आए है। इन नामों पर विस्तार से चर्चा हो गई है। अगले तीन-चार दिन के अंदर उम्मीदवार का नाम घोषित हो जाएगा। इसके पहले पार्टी इन प्रत्याशियों का फीडबैक ले रही है।
उधर चित्रकूट विधानसभा उप चुनाव के नामांकन के तीसरे दिन किसी भी अभ्यर्थी ने नाम निर्देशन-पत्र जमा नहीं किया। नाम निर्देशन-पत्र 23 अक्टूबर तक जमा होंगे।

230 total views, 1 views today

Related posts: