बसपा भी चुनावी मोड में, एमपी में तैयार हो रहा वार रूम

Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

बसपा भी चुनावी मोड में, तैयार हो रहा वार रूम

-प्रदेश पार्टी कार्यालय संवारने का काम अंतिम चरण में
– 24 को होगा प्रदेश स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन
 भोपाल। हाल में चित्रकूट विधानसभा सीट पर हुए विस उपचुनाव में भले ही बसपा ने भाग लिया न हो, लेकिन प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर बहुजन समाज पार्टी अब पूरी तरह चुनावी मोड में नजर आ रही है। प्रदेश की राजधानी में भोपाल में प्रस्तावित बसपा सुप्रीमो मायावती की सभा से संगठन को अपडेट करने के साथ ही पार्टी कार्यालय को भी अपडेट किया जा रहा है। पार्टी के प्रदेश कार्यालय में व्यवस्थाओं के साथ ही कार्यालय की रंगत को बदला जा रहा है। इतना ही नहीं, रंग-रोगन के साथ-साथ प्रदेश प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष के कक्षों को वार रूम की तर्ज पर तैयार किया जा रहा है। इससे जाहिर है कि भाजपा के साथ-साथ अब  बहुजन समाज पार्टी भी मिशन-2018 की तैयारी में जुट गई है।
पार्टी सूत्रों के मुताबिक बहुजन समाज पार्टी द्वारा भोपाल में लालपरैड मैदान पर 24 नबंवर को प्रदेश स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इसे लेकर प्रदेश संगठन द्वारा व्यापक तैयारी की जा रही है। बसपा सुप्रीमो द्वारा इस सम्मेलन  में ही प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया जाएगा। बताया जाता है कि पार्टी पूरे प्रदेश की सीटों पर अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतारने का मन बना रही है। दरअसल बसपा ने मिशन-2018 चुनावी मोड में अपनी जमावट शुरू कर दी है। पार्टी के 74 बंगले स्थित डी-14 बंगले को हाईटेक किया जा रहा है। यहां के सभी कक्षों को संवारने का काम जारी है। कौन-कहां रहेगा, इसके लिए नाम पट्टिका को भी नीले रंग से तैयार किया गया है। इसके अलावा प्रदेश प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष के कमरों को पूरी तरह से रंगरोगन कर वहां सभी सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है।
बनेगी सीटें बढ़ाने की रणनीति  :
पार्टी सूत्रों की मानें तो इस सम्मेलन के दौरान प्रदेश में पार्टी की सीटें बढ़ाने पर गंभीरतासे विचार मंथन होगा। गौरतलब है कि वर्तमान में यहां बहुजन समाज पार्टी के 4 विधायक हैं। इस आंंकडे को बढ़ाने के लिए प्रदेश स्तरीय सम्मेलन में उप्र की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती सहित पार्टी के अन्य शीर्ष नेता एमपी के नेताओं से चर्चा करेंगे। दरअसल प्रदेश में कभी बसपा की 11 सीटें थी, लेकिन धीरे-धीरे पार्टी का ग्राफ नीचे आ गया। अब मिशन 2018 में बसपा प्रदेश में अपनी सीटें बढ़ाने के लिए फिर से रणनीति तैयार करेगी।

129 total views, 2 views today

Related posts: