भावांतर योजना पर फूटा किसानों का गुस्सा, मंडी में तोड़ीं कुर्सियां, फाड़े बैनर

Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

भावांतर योजना पर फूटा किसानों का गुस्सा, मंडी में तोड़ीं कुर्सियां, फाड़े बैनर
लाइव कार्यक्रम में हंगामा

अशोकनगर। भावांतर योजना को लेकर आक्रोशित किसानों ने बुधवार को मंडी में कुर्सियां तोड़ीं व बैनर फाड़ दिए। सरकार विरोधी नारे लगा रहे किसानों का आक्रोश देखकर वहां मुख्यमंत्री लाइव कार्यक्रम में मौजूद अपर कलेक्टर और मंडी सचिव को अध्यक्ष के कमरे में शरण लेना पड़ी। किसानों के हंगामे के चलते मंडी में कारोबार दोपहर 3 बजे तक बंद रहा। मंडी कार्यालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भावांतर योजना में लिए गए नए निर्णय को लेकर जब लाइव कार्यक्रम दिखाया जा रहा था तब किसानों ने शासन के निर्णय का विरोध शुरू कर दिया। किसानों ने मंडी कार्यालय परिसर में लाइव कार्यक्रम में रखीं कुर्सियों को उठा-उठाकर फेंका। जिसके हाथ में जो कुर्सी आई उन्होंने उसे जमीन पर दे मारा। सरकार के भावांतर भुगतान योजना के बैनर और बोर्ड किसानों ने फाड़ डाले। किसानों के गुस्से को देखकर लाइव कार्यक्रम में बैठे अपर कलेक्टर अनिल चांदिल और मंडी के सचिव ओपी लक्ष्यकार डर की वजह से भागकर अध्यक्ष के कक्ष में चले गए।

– आधे घंटे तक चलता रहा हंगामा
करीब आधे घंटे तक यह हंगामा चलता रहा। इसी बीच तहसीलदार सूर्यकांत त्रिपाठी, देहात और सिटी कोतवाली की पुलिस मौके पर पहुंची। तब तक किसान जा चुके थे। किसानों के जाने के बाद तीन बजे से मंडी में माल की नीलामी का काम शुरू हो सका।

इनका कहना है
मंडी कार्यालय में एक ओर मुख्यमंत्री द्वारा भावांतर योजना को लेकर लाइव कार्यक्रम दिखाया जा रहा था तो दूसरी ओर मंडी कार्यालय के बाहर कुछ लोगों द्वारा उपद्रव किया गया। इसमे किसान भी हो सकते हैं। इसमें गाली-गलौच और तोड़फोड़ भी की गई। किसान पूरी राशि नगद देने की मांग कर रहे हैं। जिन लोगों के द्वारा उपद्रव किया गया है उनमें कुछ किसानों के साथ उपद्रवी तत्व भी शामिल हैं। ऐसे लोगों के नाम सीडी देखकर पुलिस में मामला दर्ज कराने के लिए दिया जाएगा। उत्पात करने वाले लोगों पर एफआईआर दर्ज होगी।
ओपी लक्ष्यकार, मंडी सचिव

174 total views, 1 views today

Related posts: