भाव कम मिलने से नाराज किसानों का हंगामा, दो घंटे बंद रही खरीद

Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

भाव कम मिलने से नाराज किसानों का हंगामा, दो घंटे बंद रही खरीद
शिवपुरी। प्रदेश सरकार ने किसानों को राहत देने के लिहाज से सभी जिलों में भावांतर योजना शुरू की। इसके बावजूद किसानों को उपज का सही दाम नहीं मिल रहा है। इस कारण बुधवार को शिवपुरी कृषि उपज मंडी में उड़द बेचने पहुंचे किसान भड़क गए। दरअसल, व्यापारियों ने 1500 से 1800 रुपए प्रति क्विंटल के दाम लगाए तो किसान आक्रोशित हो गए। उन्होंने सुबह साढ़े 11 बजे व्यापारियों पर मनमानी का आरोप लगाते हुए खरीदी बंद करवा दी।
साथ ही मंडी प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। किसान एकत्रित होकर खेल मंत्री यशोधरा राजे से भी मिले। मंत्री ने किसानों की समस्या को सुना और मौके पर एसडीएम रूपेश उपाध्याय सहित तहसीलदार व पुलिस बल को मौके पर भेजा।
एसडीएम ने पहले किसानों के प्रतिनिधि बलराम यादव, हरकिशन, राजेश रावत से उनकी समस्या सुनी। इसके बाद व्यापारियों का भी पक्ष जाना। व्यापारियों का कहना था कि वे फसलों की क्वालिटी देखकर ही दाम लगा रहे हैं। अच्छी फसल ऊंचे दाम पर भी खरीद रहे हैं, लेकिन नमी और खराब क्वालिटी की फसल के कम दाम भी दे रहे।
दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद अधिकारियों ने किसानों को समझाया कि उनकी फसल जिस क्वालिटी की होगी, उसका उतना ही दाम तय किया जाएगा। इसके बाद किसान अपनी फसल बेचने को तैयार हुए। करीब दो घंटे तक चले हंगामे के बाद मंडी में फिर से खरीदी शुरू हुई। इससे पहले भी शिवपुरी मंडी में भाव के अंतर को लेकर हंगामा होता रहा है। यह चौथी बार है कि जब किसान कम दाम मिलने से आक्रोशित हुए।

ये बोले एसडीएम
मंडी में उड़द के भाव कम लगाए जाने को लेकर किसान आक्रोशित हो गए थे। हमने किसान और व्यापारियों की बात सुनी। मामले को शांत कराकर खरीद शुरू कराई। किसान कम दाम मिलने से नाराज थे, जबकि व्यापारियों का कहना था कि फसल की क्वालिटी देखकर दाम लगाए जा रहे हैं – रूपेश उपाध्याय, एसडीएम शिवपुरी

198 total views, 1 views today

Related posts: