मप्र में किसानों के लिए सुरक्षा कवच बनेगी भावांतर भुगतान योजना

Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

मप्र में किसानों के लिए सुरक्षा कवच बनेगी भावांतर भुगतान योजना
-मुख्यमंत्री चौहान ने खुरई से किया भावांतर भुगतान योजना का शुभारंभ
-किसानों को उनकी मेहनत का मिलेगा पूरा लाभ
-राज्य स्तरीय शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने दीं कई सौगातें
सोयाबीन सहित आठ फसलों में मिलेगा भावांतर

भोपाल। सागर जिले की खुरई नवीन कृषि उपज मंडी प्रांगण में भावान्तर भुगतान योजना के राज्य स्तरीय शुभारंभ कार्यक्रम में सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यह योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करेगी। इस योजना में समर्थन मूल्य से कम दाम पर बिकने वाली फसलों के अंतर की राशि किसानों के बैंक खाते में दी जाएगी। किसानों को उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाया जाएगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने लगभग एक सौ करोड़ रुपए की लागत के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया। कार्यक्रम का प्रदेश में लाइव प्रसारण किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पूरे प्रदेश की 257 मंडियों में सोमवार से योजना का शुभारंभ हो रहा है। बुंदेलखंड के किसान मेहनत कर रहे हैं। प्रदेश कृषि के क्षेत्र में देश में नम्बर एक है। प्रदेश के किसानों के लिए आज का दिन ऐतिहासिक एवं स्वर्णिम है। सरकार किसानों को कर्ज बिना ब्याज के दे रही है। इतना ही नहीं अब एक लाख का कर्ज लेने पर 90 हजार रुपए ही वापस करना होते हैं। खेती को लाभ का धंधा बनाना है। खुरई के गेहूं की पूरे हिन्दुस्तान में पहचान है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सिंचाई की सुविधा उपलब्ध करवाना सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। बीना कॉम्पलेक्स की योजना को स्वीकृति दे दी गई है। इसमें लगभग 3735 करोड़ रुपए खर्च होंगे एवं लगभग 2.5 लाख हैक्टेयर में सिंचाई होगी। परकुल, कड़ान मध्यम परियोजनाओं को भी स्वीकृति दे दी गई है। इसी तरह कई लघु परियोजनाओं को स्वीकृति दी जाएगी। केन-बेतवा लिंक परियोजना को जल्दी शुरू करने के प्रयास चल रहे हैं। किसानों को उनकी फसलों की उचित कीमत दिलायी जाएगी। जब तक उचित दाम नहीं मिलेंगे, आमदनी नहीं बढ़ सकती है।

–  कृषक युवा उद्यमी योजना से 10 लाख से 2 करोड़ तक मिलेगा लोन
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने 8 रुपए प्रति किलो की दर से प्याज खरीदी है। सरकार किसानों की मेहनत को बर्बाद नहीं होने देना चाहती है। समर्थन मूल्य के नीचे फसल नहीं बिकने देंगे। किसान सीधे मंडी में फसल बेचेगा और समर्थन मूल्य के अंतर की राशि किसान के खाते में डाल दी जाएगी। उड़द, मूंग, सोयाबीन, मक्का के समर्थन मूल्य से नीचे बिकने का उदाहरण देकर मुख्यमंत्री ने योजना की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने किसानों से योजना के तहत पंजीयन कराने की अपील करते हुए बताया कि उद्यानिकी फसलों पर भी यह योजना लागू की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1000 करोड़ रुपए लागत का मूल्य स्थिरीकरण कोष बनाया गया है। फसल गिरदावली मोड्यूल एप बनाया जाएगा। बुंदेलखंड के सारे जिले सूखाग्रस्त घोषित किए गए हैं। बीस प्रतिशत राशि जमा करने पर जले हुए ट्रांसफार्मर बदलवाए जाएंगे। कृषक युवा उद्यमी योजना लागू की जाएगी, जिसमें 10 लाख से लेकर 2 करोड़ रुपए तक का लोन मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अंचल के कृषि उपकरण पूरे देश में प्रसिद्ध है। इसके लिए खुरई में औद्योगिक क्षेत्र बनाया जाएगा। खसरे और बी-1 की नकल किसानों को घर बैठे दी जाएगी। चौहान ने कहा कि अविवादित नामांतरण, बंटवारा, सीमांकन के मामले युद्ध स्तर पर निपटाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अच्छा कार्य करने वालों को पुरस्कृत करेंगे एवं भ्रष्टाचारियों पर कार्यवाही करेंगे। वर्ष 2018 तक 4 लाख किसानों को स्थायी कनेक्शन देंगे। मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना लागू की जाएगी। किसानों को निश्चित सीमा में नगद भुगतान किया जाएगा। संकट की घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है, उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। भावान्तर भुगतान योजना किसानों के लिए सुरक्षा कवच है, जो इतिहास रचेगी। उन्होंने मुख्यमंत्री मेधावी छात्र योजना का जिक्र करते हुए छात्रों की पढ़ाई में पूरा सहयोग करने के लिए कहा।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बांदरी और खिमलासा में महाविद्यालय खोला जाएगा। खुरई में कृषि महाविद्यालय अगले सत्र में प्रारंभ कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि बीना नदी परियोजना की स्वीकृति दे दी गई है। मालथौन में आईटीआई, खुरई में औद्योगिक क्षेत्र और विद्युत मंडल का संभागीय कार्यालय खोला जाएगा। उन्होंने किसानों से बेटा-बेटी को पढ़ाने की अपील की। साथ ही स्वच्छता रखने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस में 33 प्रतिशत बेटियों की भर्ती होगी।

मुख्यमंत्री चौहान ने भावान्तर भुगतान योजना को हरी झंडी दिखाकर योजना का शुभारंभ किया। चौहान ने योजना के विक्रय पत्र वितरित किए। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना की अनुदान राशि, लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रमाण-पत्र, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के चैक, मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना के चैक, स्वीकृति पत्र और मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत बैंक सखी के रूप में कार्य करने के लिए लैपटॉप वितरित किए।

गृह एवं परिवहन मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कार्यक्रम में बड़ी संख्या में शामिल जनता को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के कार्यकाल में खुरई क्षेत्र में काफी विकास हुआ है। आज पूरे प्रदेश में भावांतर योजना योजना की एक साथ शुरूआत हो रही है। उन्होंने बीना काम्पलेक्स की मंजूरी सहित विभिन्न विकास कार्यो की स्वीकृति के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने बांदरी एवं बीना के खिमलासा में महाविद्यालय, मालथौन में 60 बिस्तर के अस्पताल एवं आईटीआई, खुरई में विद्युत मंडल के संभागीय कार्यालय और बरोदिया में 33 केव्ही सब स्टेशन सहित विभिन्न मांगें रखी। उन्होंने खुरई में 100 बिस्तर के अस्पताल के लोकार्पण सहित लगभग 100 करोड़ के विकास कार्यों के लोकार्पण एवं शिलान्यास के लिए मुख्यमंत्री चौहान का आभार माना।

कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री गोपाल भार्गव, सांसद लक्ष्मीनारायण यादव, विधायक शैलेन्द्र जैन, महेश राय, पारूल साहू, प्रदीप लारिया, हरवंश सिंह राठौर, महापौर अभय दरे, जिला पंचायत अध्यक्ष दिव्या अशोक सिंह, म.प्र. हाथकरघा विकास निगम के अध्यक्ष नारायण प्रसाद कबीरपंथी, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष लता वानखेड़े, भाजपा के जिलाध्यक्ष राजा दुबे, शैलेश केशरवानी सहित अन्य जन-प्रतिनिधि, कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

250 total views, 1 views today

Related posts: