मिशन-2018 : किसानों के बीच छवि सुधारने में लगी भाजपा सरकार

mission-2018, mp vidhansabha chunav, mp bjp, mp bjp government, aadiavsi, kisan, former, agricultur in mp, kisan aandolan, मिशन-2018, किसान और वनवासी, भाजपा bpl news, mp bjp news
Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

किसान आंदोलन पर भाजपा का कांग्रेस को ‘करारा जवाब’

-कांग्रेस ने मंदसौर गोलीकांड को लेकर उठाए थे सवाल
भोपाल। मप्र में भाजपा सरकार मिशन-2018 फतह कर चौथी बार सत्ता मं आना चाहती है। विधानसभा चुनाव में लगभग अभी एक वर्ष का समय बचा है, लेकिन सरकार और संगठन अभी से मिशन फतह की पुरजोर तैयारियों में लगी है। प्रदेश में चार माह पहले हुए किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर गोलीकांड में किसानों की मौत से भाजपा सरकार की जमकर किरकिरी हुई थी। ये मामला राष्ट्रीय स्तर तक गूंजा था। हालांकि इन सबके बावजूद प्रदेश सरकार अब किसानों को मनाने के लिए लगी है और किसान कल्याणकारी योजनाओं लेकर उनके बीच जाएगी। संगठन कार्यकर्ता बूथ स्तर पर जाकर सरकार को किसान हितैषी बताएंगे। मंदसौर किसान आंदोलन के बाद से कांग्रेस के निशाने पर चल रही भाजपा अब इस दाग से उभरने के लिए पूरा जोर लगा रही है। किसानों में दोबारा अपनी छवि चमकाने और उनका विश्वास जीतने के लिए सरकार ने एक नई बुकलेट प्रकाशित की है, जिसका नाम ‘करारा जवाब’ रखा गया है। इस किताब में उन सभी सवालों और कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोपों के जवाब हैं, जो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मंदसौर आंदोलन के दौरान पूछे गए थे। सरकार विधानसभा चुनाव को लेकर काफी सजग हो गई है। संगठन और प्रदेश सरकार इसके लिए कोई ऐसी कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं, जो चुनाव के दौरान परेशानी का सबब बने।

– सरकार किसान सम्मेलनों में बांटेगी किताब
प्रदेश में आयोजित किए जा रहे किसान सम्मेलनों में भाजपा इस किताब बांटेगी, जिससे किसानों में सरकार के प्रति नाराजगी कम हो सके और सरकार की नीतियों का प्रचार भी हो। भाजपा व्यापक स्तर पर किसान आंदोलन से जुड़े मुद्दे पर प्रदेशभर में प्रचार अभियान चलाएगी। इसके किसान कल्याण के बारे में खुलकर बताया जाएगा। मानसून सत्र के दौरान कांग्रेस ने सरकार को जमकर घेरा था। कांग्रेस का आरोप था कि मंदसौर गोली चालन में 5 किसानों की जान सरकार की वजह से गई थी। इस पूरे मामले पर कांग्रेस ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की गोलबंदी की थी। सीएम ने विधानसभा में विपक्ष के हमले का जवाब पेश किया था, जिसका पार्टी ने समर्थन किया था। साथ ही राष्ट्रीय नेतृत्व ने भी शिवराज के जवाब को मान्यता दी थी।

 

– सरकार की नीतियां प्रसारित करने प्रकाशित की पुस्तिका
कृषि संकट पर मुख्यमंत्री के रुख को प्रसारित करने और किसानों के कल्याण के लिए उठाए गए सरकार की पहल का प्रचार करने के लिए, पार्टी की राज्य इकाई ने ‘करारा जावाब’ नामक एक पुस्तिका प्रकाशित की है, जो वास्तव में कांग्रेस के विधायकों द्वारा लगाए गए आरोपों का मुकाबला करेगी। पुस्तिका किसान मोर्चा द्वारा किसानों और पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच प्रसारित की जाएगी, जो सभी ब्लॉकों और मतदान केंद्रों के किसानों तक पहुंचाई जाएगी। गौरतलब है कि मंदसौर गोलीकांड के बाद से ही किसानों में सरकार के खिलाफ नाराजगी और आक्रोश अभी भी है। हकीकत यही है कि प्रदेश के किसान भाजपा सरकार से नाराज चल रहे हैं। यही वजह है कि वे बार-बार आंदोलनों का सहारा ले रहे हैं। किसान संघ फिर से प्रदेशभर में अक्टूबर माह में आंदोलन कर रहा है।  इसको लेकर संगठन और सरकार तालमेल बनाकर किसानों को साधने में लगे हैं और भाजपा सरकार को किसान हितैषी बता रहे हैं।


-प्रदेशभर में चुनाव के लिए सक्रिय हुए कार्यकर्ता
मप्र में विधानसभा चुनाव की तैयारी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की गाइडलाइन पर अमल करते हुए भाजपा ने प्रदेशभर में 300 कार्यकर्ताओं को एक साल के लिए तैयार किया है। पार्टी ने इन कार्यकर्ताओं को जमीनी स्तर पर जनता के बीच पार्टी के प्रचार सहित अन्य गतिविधियों के लिए तीन प्रशिक्षण वर्गों में चुनावी जीत तय करने की ट्रेनिंग भी दिलवाई है। कार्यकर्ता 2018 के चुनाव में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह द्वारा दिया गया नारा अब की बार 200 पार को असल तस्वीर देने के लिए प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों और 230 विधानसभा क्षेत्रों में एक वर्ष के पार्टी संगठन को मजबूत देने का कार्य संभालेंगे।

382 total views, 1 views today

Related posts: