केजरीवाल ने फूंका चुनावी बिगुल, सभी सीटों पर विधानसभा चुनाव लडेगी ‘आप’

Please follow and like us:
1
https://www.youtube.com/embed/z95RiEFvXbc

केजरीवाल ने फूंका चुनावी बिगुल, सभी सीटों पर विधानसभा चुनाव लडेगी ‘आप’

मप्र की भाजपा सरकार पर जमकर बरसे दिल्ली के सीएम केजरीवाल
– मप्र की जनता से मांगा सहयोग, कहा- मिलकर लड़ना है चुनाव
भोपाल। मप्र अगले साल 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव की रणभेरी हुंकार भरने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को भोपाल के भेल दशहरा मैदान पर विशाल आम जनसभा को संबोधित किया। इस सभा में प्रदेशभर से आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं के अलावा आम जनमानस भी एकत्र हुआ। इस मौके पर केजरीवाल ने प्रदेश और केंद्र सरकार पर  निशाना साधा और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पाटियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई। इस दौरा केजरीवाल ने दिल्ली सरकार की उपलब्धियां भी गिनार्इं। वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रदेश की भाजपा सरकार से पिछले 14 साल के शासन का हिसाब मांगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश की शिवराज सरकार ने पिछले 15 वर्ष में जनता को चूसा है। भाजपा और कांग्रेस की जुगलबंदी चल रही है। केजरीवाल ने दिल्ली सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि दिल्ली की ढाई साल की सरकार और मप्र की 15 साल की सरकार तुलना करके देख लो। किसने कितना काम किया। इस दौरान उन्होंने व्यापमं घोटाले को लेकर भी भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मप्र दुनिया में भ्रष्टाचार के मामले में प्रसिद्ध है। केंद्र के सर्वे के अनुसार दिल्ली में  81 फीसदी भ्रष्टाचार कम हुआ है। मप्र में भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए जनता से समर्थन मांगा। उन्होंने बिजली में भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया तो शिक्षा, स्वास्थ्य की दिल्ली से तुलना की। केजरीवाल ने शंखनाद रैली में प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हमने गलत तरीके से पैसा नहीं कमाया, इसलिए हमारे पास चुनाव लड़ने के लिए पैसे नहीं है। यह चुनाव आप लोगो को लड़ना पड़ेगा।  केजरीवाल ने आम जनता से कहा कि क्या मध्यप्रदेश में आम आदमी 230 सीटों पर चुनाव लड़े।

– मप्र से सस्ती बिजली है दिल्ली में
केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोग मप्र से बिजली खरीदते हैं तो बिजली कहां सस्ती होनी चाहिए। इस पर शिवराज सिंह चौहान चुप क्यों हैं। जनता सब जानती है। जब पूरे देश में सबसे महंगी बिजली दिल्ली में थी और अब सबसे सस्ती मप्र में है। उन्होंने प्रदेश के सरकारी स्कूलों के जर्जर हालत पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि दिल्ली के स्कूलों की भी हालत खराब थी। ढाई साल के अंदर स्थिति बदली। प्राइवेट स्कूल के बच्चे सरकारी में आ रहे हैं। दिल्ली के सरकारी स्कूल में स्वीमिंग पूल बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज आम आदमी पार्टी की पहचान ईमानदारी के लिए होती है। दुनिया में चर्चे हो रहे हैं।

– भाजपा 15 साल में भी मप्र का विकास नहीं कर सकी
मप्र के अस्पतालों का हाल खराब हैं। दिल्ली के सभी सरकारी अस्पतालों में दवाइयां और टेस्ट मुफ्त कर दिया गया है। अगर दिल्ली का विकास ढाई साल में हो सकता है तो मप्र का विकास 15 सालों में क्यों नहीं हो पाया। क्या किसानों को फसलों का पूरा मुआवजा मिलना चाहिए। उन्होंने आम जनता से पार्टी के विधानसभा चुनाव लड़ने पर जनता से राय मांगी। उन्होंने का कि सारी सीटों पर पार्टी चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि व्यापमं चाहते तो शिवराज को वोट दो। महंगी बिजली के लिए शिवराज को वोट दो। नहीं तो आम आदमी पार्टी की सरकार बनाना। चुनाव लड़ने के लिए हमारे पास पैसा नहीं है। पार्टी का बैंक अकाउंट खाली है। मेरा बैंक अकाउंट खाली है। गलत तरीके से पैसा कमाने नहीं आ रहे हैं। यह चुनाव आप लोगों को लड़ना है। मप्र के लोगों को मिलकर दिल्ली की तरह राजनीति बदलना होगी। इसके पहले आईएसबीटी से एक रैली की शक्ल में केजरीवाल दशहरा मैदान पहुंचे। बताया जा रहा है कि केजरीवाल की तबीयत अचानक बिगड़ने की वजह से वह दशहरा मैदान पर लेट पहुंचे। इस दौरान पार्टी के प्रदेश प्रभारी गोपाल राय, मप्र के संयोजक राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक अग्रवाल समेत पार्टी के सभी नेता मौजूद रहे।
—–
व्यापमं पर बोले केजरीवाल
-मध्यप्रदेश का नाम सुनते ही सबसे पहले नाम व्यापमं घोटाला। मध्यप्रदश के आठ करोड़ लोगों का अपमान किया है। भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया। व्यापमं घोटाले में 40 साल से अधिक बच्चों की मौत हो गई। जिनकी मौत हुई, जिनका कत्ल किया गया,उनका क्या कसूर था। वे पेपर देने गए थे, पढ़ना चाहते थे। मंत्री, अफसर नेताओं ने भ्रष्टाचार किया, उन्हें कोई नहीं पकड़ रहा है, लेकिन बच्चों का कत्ल कर दिया गया।

– ये भी बोले केजरीवाल
-जैसे दिल्ली के लोगों ने दिल्ली की राजनीति बदल दी, ऐसे ही मध्यप्रदेश की जनता को मप्र की राजनीति बदलना है।
-मैं आप से पूछना चाहता हूं कि मप्र से भ्रष्टाचार दूर होना चाहिए।
-अगर ढाई साल में दिल्ली का विकास हो सकता है तो 15 सालों में मध्यप्रदेश का विकास क्यों नहीं हो सकता है।
-मप्र के अस्पतालों के बारे में कहा कि जर्जर हालत में है। दिल्ली में सारे टेस्ट इलाज और सारी दवाएं मुफ्त कर दी। डाक्टर टाइम पर पहुंचते हैं।
-दिल्ली के सरकारी स्कूलों में स्वीमिंग पूल बन रहे हैं। सुविधाएं बढ़ रही है।
-मप्र के सरकारी स्कूलों की हालत खराब है।
-पूरे देश में सबसे सस्ती बिजली दिल्ली में मिलती है। क्या आप भी सबसे सस्ती बिजली चाहते हैं। मप्र के लोगों का क्या गुनाह है कि इन्हें बिजली महंगी मिलती है।
-शिवराज सरकार चुप क्यों हैं।
-केजरीवाल बोले- दिल्ली के लोग मप्र से बिजली खरीदते हैं और मप्र में 1370 रुपए बिजली का बिल आता है।
-आजादी के बाद एक भी सरकार बता दो जिसने ढाई साल के भीतर 81 प्रतिशत करप्शन कम कर दिया।

शिवराज सरकार को उखाड़ फेंकना है
-आलोक अग्रवाल ने कहा कि 2018 में शिवराज सरकार को उखाड़ फेंकना है। एक साल के लिए इस हवन में कूद जाना है। नौकरी छोड़ दो, पढ़ाई छोड़ दो चाहे अपना घर छोड़ दो, नहीं तो आने वाली पीढ़ी को मुंह नहीं दिखा पाएंगे। उन्होंने कहा कि हम शिवराज सरकार के अंत का शंखनाद कर रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने कांग्रेस सवाल पूछा कि यदि ज्योतिरादित्य सिंधिया को सीएम पद का उम्मीदवार बनाते हैं तो हम पूछेंगे, जब केद्र सरकार में वे ऊर्जा मंत्री थे तो उनके कार्यकाल में टूजी स्पेक्ट्रम घोटाला क्यों हुआ। वहीं बैतूल में किसानों पर जो गोलियां चलीं वो क्यों चलाई गर्इं। उन्होंने कहा कि जो सुविधाएं दिल्ली की आप सरकार दे सकती है तो मप्र सरकार क्यों नहीं देती।

230 सीटों पर चुनाव लड़ने की योजना
सूत्रों के मुताबिक आम आदमी पार्टी की मध्यप्रदेश में इस दस्तक से माना जा रहा है कि आम आदमी पार्टी मध्यप्रदेश की 230 सीटों पर चुनाव लड़ने की योजना पर काम कर रही है। इसी सिलसिले में अरविंद केजरीवाल भोपाल आए हुए हैं।

पूरे दमखम के साथ उतरेगी पार्टी
आम आदमी पार्टी अब मध्यप्रदेश में मध्यप्रदेश में 2018 होने जा रहे इलेक्शन में पूरे दमखम के साथ उतरने के मूड में है। आम आदमी पार्टी (आप) के मध्यप्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल के मुताबिक मध्यप्रदेश में इस वक्त 2,66,072 संविदा कर्मचारी हैं, जिन्हें कम वेतन दिया जा रहा है। इसी प्रकार 24 हजार दैनिक वेतनभोगी और एक लाख 80 हजार शिक्षाकर्मियों को भी कम वेतन दिया जा रहा है। इसी प्रकार अतिथि शिक्षकों को मजदूरों से भी कम वेतन दिया जा रहा है। मध्यप्रदेश सरकार न 36 हजार 535 संविदा कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया। सरकार खुलेआम कर्मचारियों का शोषण कर रही है। जो भी अपने हक की आवाज उठाता है उसे नौकरी से निकाल दिया जाता है। आम आदमी पार्टी इन्हीं शोषित वर्ग के लिए संघर्ष करेगी।

173 total views, 1 views today

Related posts: